गुग्गल नही है किसी संजीवनी बूटी से कम

गुग्गल औषधि आयुर्वेद की किताब में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। और ये तब और भी ताकतवर हो जाता है जब इसे कोस्टर तेल और घी के साथ मिला दिया जाए.ऐसा करने से इसकी ताकत कई गुना बढ़ जाती है और ये अनके रोगों के निदान करने में सहायता करता है।

1
773
Fragrant Gum is not less than any Sanjeevani herb
Fragrant Gum is not less than any Sanjeevani herb

गुग्गल औषधि आयुर्वेद की किताब में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। और ये तब और भी ताकतवर हो जाता है जब इसे कोस्टर तेल और घी के साथ मिला दिया जाए.ऐसा करने से इसकी ताकत कई गुना बढ़ जाती है और ये अनके रोगों के निदान करने में सहायता करता है। गुग्गल एक प्राचीनतम औषधि है जिसका उपयोग कई बिमारियों डायबिटीज , कफ ,वात से लेकर ओबसिटी जैसी अनेक प्रकार की बिमारियों में मदद करता है। इसमें इसके एंटी इन्फ्लेटमेंट गुणों के कारन ये भयानक बिमारियों में सहायक होता है

एक प्रकार का पेड़ होता है और इस पेड़ पर बनने वाले गोंद को गुग्गल बोलते है। इसे आप सीधे तौर पर नही खा पाएंगे क्योकि ये स्वाद में कड़वा होता है। ये रोग के आधार पर कई तरह की चोजों में मिश्रण करके इसका उपयोग किया जाता है। आप निचे दिए गए रोगों में इसका उपयोग कर सकते है लेकिन पहले डॉक्टर की सलाह ले ले।

1.घुटनों और जोड़ों के दर्द में –

आपको यदि हड्डियों से जुडी कोई भी समस्या है तो गुग्गल का उपयोग कर सकते है। इस रोग के लिए ये सबसे अच्छी औषधि साबित होगी। ये हड्डियों से जुड़े कई समस्या जैसे – आपको चोट लग गयी है और जलन हो रही है तो इसका उपयोग करें , टूटी हुई हड्डियों को जोड़ने मे मदद करता है, सूजन को कम करता है।

2. यूट्रस की परेशानी में आराम देता है –

यदि आपको यूट्रस की समस्या है तो गुग्गल का सेवन करके इससे आराम पाया जा सकता है। गुनगुने पानी के साथ एक चमच गुग्गल का सेवन करें तो इससे फायेदा मिलेगा। अगर यूट्रस की समस्या ज्यादा है तो आप इसका सेवन 5 – ६ घंटे के गेप में भी ले सकते है।

3. त्वचा की समस्या –

कई बार शरीर में खून की खराबी के कारन त्वचा से सम्बंधित कई तरह के रोग हो जाते है जैसे – सफेट या लाल फोड़े , फुंसी आदि. तो इन रोगो में भी गुग्गल बहुत ही असरदार साबित होता है।

4. मोटापे से छुटकारा –

गुग्गल फैट को काटने का काम करता है अगर आप इसका उपयोग करते है तो मोटापे को कम करने में भी बहुत हद तक मदद करता है।

5. डाइबिटीज़ –

ये इन्सुलिन को कण्ट्रोल करने का काम करता है। तो डाइबिटीज़ के मरीज के लिए बहुत ही फायदेमंद है और उसे इसका सेवन करना चाहिए। गुग्गल पेन्क्रियाज को बचता है इससे इन्सुलिन का उत्पादन अच्छे से होता है।

6. गंजापन

यदि आप गंजेपन से परेशान है या धीरे धीरे गंजापन आपको जकड़ रहा है तो इसकी सहायता से आप गंजेपन को दूर कर सकते है। सिर में जहां भी गंजापन है या बाल उड़ गए है , वहां वहां इसे लगाने से गंजेपन की शिकयत दूर होगी और नए बाल उगने लगेंगे।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here