फ्लैट फुट की समस्या (Problem) को अनदेखा करना हो सकता है नुकसानदायक

फ्लैट फुट की समस्या को अनदेखा करना कहीं आपको भारी न पड़ जाए।फ्लैट फुट की समस्या एक बहुत ही गंभीर समस्या है इसे हल्के में ना लें।यदि इसका सही टाइम पर ट्रीटमेंट आप नहीं लेते हैं तो यह समस्या आपको परेशानी में डाल सकती है। फ्लैट फुट के कारण आपके पैर के आकार और अनुपात में अंतर आ सकता है।

0
95
फ्लैट फूट की समस्या (Flat Foot Problem) को अनदेखा करना हो सकता है नुकसानदायक
फ्लैट फूट की समस्या (Flat Foot Problem) को अनदेखा करना हो सकता है नुकसानदायक

फ्लैट फुट की समस्या (Problem) को अनदेखा करना हो सकता है नुकसानदायक

फ्लैट फुट की समस्या को अनदेखा करना कहीं आपको भारी न पड़ जाए।फ्लैट फुट की समस्या एक बहुत ही गंभीर समस्या है इसे हल्के में ना लें।यदि इसका सही टाइम पर ट्रीटमेंट आप नहीं लेते हैं तो यह समस्या आपको परेशानी में डाल सकती है। फ्लैट फुट के कारण आपके पैर के आकार और अनुपात में अंतर आ सकता है। वैसे तो यह एक आम समस्या है जो छोटे बच्चों और वयस्कों में पाई जाती है। तो आइए जानते हैं कैसे आप इस बीमारी को पहचान कर सकते हैं और और किन उपचारों को आप प्रयोग में ला सकते हैं।

क्या है जब हम पैर जमीन पर टेकते हैं तो हमारा पैर जमीन पर समतल ना टिक्कर उसके बीच में थोड़ा गैप रहता है जिसे आर्च कहते हैं। यदि यह आज सामान्य से कम है या फिर आपका पैर जमीन पर पूरी तरह समतल जमीन को छूता है समस्या को फ्लैट फुट कहते हैं। वैसे तो फ्लैट फुट एक आम समस्या है कई लोगों को इससे चलने फिरने में या किसी भी काम को करने में कोई परेशानी नहीं होती है लेकिन कुछ वयस्कों और बच्चों में यह गंभीर दर्द का कारण बन सकता है।

फ्लैट फुट के प्रकार

 1. जब बच्चा चल नहीं रहा हो और उसके पैर के बीच में आर्च दिखे।

2.जब बच्चा चल रहा हो और पैर के बीच कोई आर्च नहीं दिखे और पैर पूरा समतल ज़मीन पर टिक रहा हो। ये दूसरे प्रकार की फ्लैट फुट  समस्या ज्यादा परेशानी का कारण बन सकता है।

बच्चों में फ्लैट फुट की समस्या – 

1.बच्चों में फ्लैट फूट की समस्या

जब बच्चे छोटे होते हैं तो उनके पैर एकदम सपाट रहते हैं और उनके पैर में कोई कर्व नहीं बनता है। बच्चों में अक्सर 2 से 3 साल की उम्र तक पांव फ्लैट ही रहते हैं उनके पैर में कोई कर्व नहीं रहता। और जैसे-जैसे बच्चे विकसित होते हैं उनके पैरों में आर्च बनना शुरू होते हैं और यह धीरे-धीरे बनते हैं। कई स्थितियों में यह जरूरी नहीं है कि फ्लैटफुट होने पर उनको पैरों से रिलेटेड अन्य समस्याएं भी आएंगी। एक  स्थिति ऐसी भी है जब बच्चों के पैर लचीले होते हैं और और जब वह चलते हैं तो उनके पैर के बीच में गैप नजर नहीं आता है इसके विपरीत जब वह बैठे रहे तब उनके पैर के बीच में हल्का गैप दिखाई देता है ,तो इस स्थिति में पैरों की अन्य समस्या नहीं होती।

2. वयस्कों में फ्लैट फुट की समस्या 

यदि बचपन में फ्लैट फुट की समस्या नहीं हो और आपके बड़े हो जाने पर यह समस्या आ गई हो तो यह बहुत ज्यादा दिक्कत आपको दे सकती है। यह समस्या अक्सर ज्यादा उम्र की महिलाओं  जिनको मांसपेशियों में कमजोरी है, उन महिलाओं में यह आपको ज्यादा देखने को मिल सकती है। इसके अलावा हारमोंस में बदलाव डायबिटीज़ और गर्भावस्था और कभी-कभी पैर में चोट लगने के कारण भी यह बीमारी उभर कर आ सकती है।

फ्लैट फुट के लक्षण –

वैसे तो फ्लैट फुट के होने के कोई लक्षण नहीं होते -लेकिन कुछ आम बातें हैं जिनसे हम इसको पहचान सकते हैं।

1. पैरों में थकान महसूस होना।

2. खेलने कूदने आदि कार्यों में पैर में दर्द होना।

3. टखनों में सूजन आना। 

क्रॉनिक पेन (Chronic Pain)- आपको तीन महीने से अधिक समय से दर्द है,सतर्क हो जाएं

फ्लैट फुट के कारण- 

1.अनुवांशिक कारण – यदि आपके परिवार में यह समस्या है तो आपके माता-पिता से बच्चों में फ्लैट फुट होने की संभावना ज्यादा हो जाती है।

2. मोटापा- मोटापे के कारण भी इसका एक कारण हो सकता है .

3. पैर में आई चोट के कारण।

4. यदि आपको डायबिटीज की समस्या है तो भी ये समस्या आपको आ सकती है।

5., मांसपेशियों और तंत्रिकाओ से जुड़े रोग के कारण।

फ्लैट फुट का उपचार

यह एक आम समस्या है और इसका उपचार किया जा सकता है। उपचार की शुरुआत व्यायाम से करें। ऐसे जूतों का उपयोग करें जो पैरों को उचित सपोर्ट दे सके। अक्सर खेलते कुत्ते समय पैरों में चोट आ जाती है जिसे फिजियोथैरेपी की मदद से सही किया जा सकता है।यदि आपका वजन ज्यादा है तो वजन कम करना भी फायदेमंद होता है। इसके लिए सर्जरी भी आप करवा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here